Magical Remedies -बिल्ली की नाल मिल जाए तो मालामाल

WhatsAppFacebookTwitterLinkedIn

बिल्ली की जेर को बहुत फायदेमंद माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि किसी व्यक्ति को बिल्ली की जेर मिल जाए तो वह माला माल हो सकता है। क्या वास्तव मे यह काम करता है ? इस बात का पता तो वेही लोग बता सकते हैं। जिनके पास बिल्ली की ‌‌ऑरेजनल जेर रही होगी। लेकिन फिर भी आइए जान लेते हैं कि बिल्ली की जेर के फायदे या बिल्ली की जेर के लाभ के बारे मे ।

Magical effects of keeping a siddh cat’s cord / umbilical cord of a forest cat specially a Black cat can do wonders beyond your imagination for your financial status and everything else that you wish for.

बिली की ज़र / बिली की नाल

बिली की ज़ेर एक बिल्ली की Navel cord या Feeding tube है। जब एक बिल्ली बच्चे को जन्म दे रही होती है, तो वह नीचे गिरते ही बिल्ली अपनी खुद की फीडिंग ट्यूब को निगल जाती है। यह किसी को भी इसे अपने से दूर करने की अनुमति नहीं देती है। हिंदी शास्त्रों के अनुसार, जो लोग अपने कैश बॉक्स में बिली की नाल रखते है, वे आर्थिक रूप से बहुत अधिक सुदृंढ होते है । यह रहस्यमय वस्तु बहुत अधिक वित्तीय स्थिरता भी देती है।

मार्जारी अर्थात्‌ बिल्ली सिंह परिवार का जीव है। केवल आकार का अंतर इसे सिंह से पृथक करता है, अन्यथा यह सर्वांग में, सिंह का लघु संस्करण ही है। मार्जारी अर्थात्‌ बिल्ली की दो श्रेणियाँ होती हैं- पालतू और जंगली। जंगली को वन बिलाव कहते हैं। यह आकार में बड़ा होता है, जबकि घरों में घूमने वाली बिल्लियाँ छोटी होती हैं। वन बिलाव को पालतू नहीं बनाया जा सकता, किन्तु घरों में घूमने वाली बिल्लियाँ पालतू हो जाती हैं। अधिकाशतः यह काले रंग की होती हैं, किन्तु सफेद, चितकबरी और लाल (नारंगी) रंग की बिल्लियाँ भी देखी जाती हैं।

घरों में घूमने वाली बिल्ली (मादा) भी लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कराने में सहायक होती है, किन्तु यह तंत्र प्रयोग दुर्लभ और अज्ञात होने के कारण सर्वसाधारण के लिए लाभकारी नहीं हो पाता। वैसे यदि कोई व्यक्ति इस मार्जारी तन्त्र का प्रयोग करे तो निश्चित रूप से वह लाभान्वित हो सकता है।

गाय, भैंस, बकरी की तरह लगभग सभी चौपाए मादा पशुओं के पेट से प्रसव के पश्चात्‌ एक झिल्ली जैसी वस्तु निकलती है। वस्तुतः इसी झिल्ली में गर्भस्थ बच्चा रहता है। बच्चे के जन्म के समय वह भी बच्चे के साथ बाहर आ जाती है। यह पॉलिथीन की थैली की तरह पारदर्शी लिजलिजी, रक्त और पानी के मिश्रण से तर होती है। सामान्यतः यह नाल या आँवल कहलाती हैं। इसे ही बिल्ली की जेर भी कहते हैं |

इस नाल को तांत्रिक साधना में बहुत महत्व प्राप्त है। स्त्री की नाल का उपयोग वन्ध्या अथवा मृतवत्सा स्त्रियों के लिए परम हितकर माना गया है। वैसे अन्य पशुओं की नाल के भी विविध उपयोग होते हैं। यहाँ केवल मार्जारी (बिल्ली) की नाल का ही तांत्रिक प्रयोग लिखा जा रहा है, जिसे सुलभ हो, इसका प्रयोग करके लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कर सकता है।

जब पालतू बिल्ली का प्रसव काल निकट हो, उसके लिए रहने और खाने की ऐसी व्यवस्था करें कि वह आपके कमरे में ही रहे। यह कुछ कठिन कार्य नहीं है, प्रेमपूर्वक पाली गई बिल्लियाँ तो कुर्सी, बिस्तर और गोद तक में बराबर मालिक के पास बैठी रहती हैं। उस पर बराबर निगाह रखें। जिस समय वह बच्चों को जन्म दे रही हो, सावधानी से उसकी रखवाली करें। बच्चों के जन्म के तुरंत बाद ही उसके पेट से नाल (झिल्ली) निकलती है और स्वभावतः तुरंत ही बिल्ली उसे खा जाती है। बहुत कम लोग ही उसे प्राप्त कर पाते हैं। 

Stray Cat is giving a birth at the house.

अतः उपाय यह है कि जैसे ही बिल्ली के पेट से नाल बाहर आए, उस पर कपड़ा ढँक दें। ढँक जाने पर बिल्ली उसे तुरंत खा नहीं सकेगी। चूँकि प्रसव पीड़ा के कारण वह कुछ शिथिल भी रहती है, इसलिए तेजी से झपट नहीं सकती। जैसे भी हो, प्रसव के बाद उसकी नाल उठा लेनी चाहिए। फिर उसे धूप में सुखाकर प्रयोजनीय रूप दिया जाता है।

धूप में सुखाते समय भी उसकी रखवाली में सतर्कता आवश्यक है। अन्यथा कौआ, चील, कुत्ता आदि कोई भी उसे उठाकर ले जा सकता है। तेज धूप में दो-तीन दिनों तक रखने से वह चमड़े की तरह सूख जाएगी। सूख जाने पर उसके चौकोर टुकड़े (दो या तीन वर्ग इंच के या जैसे भी सुविधा हो) कर लें और उन पर हल्दी लगाकर रख दें। हल्दी का चूर्ण अथवा लेप कुछ भी लगाया जा सकता है। इस प्रकार हल्दी लगाया हुआ बिल्ली की नाल का टुकड़ा लक्ष्मी यंत्र का अचूक घटक होता है।

तंत्र साधना के लिए किसी शुभ मुहूर्त में स्नान-पूजा करके शुद्ध स्थान पर बैठ जाएँ और हल्दी लगा हुआ नाल का सीधा टुकड़ा बाएँ हाथ में लेकर मुट्ठी बंद कर लें और लक्ष्मी, रुपया, सोना, चाँदी अथवा किसी आभूषण का ध्यान करते हुए 54 बार यह मंत्र पढ़ें- ‘मर्जबान उल किस्ता’।

इसके पश्चात्‌ उसे माथे से लगाकर अपने संदूक, पिटारी, बैग या जहाँ भी रुपए-पैसे या जेवर हों, रख दें। कुछ ही समय बाद आश्चर्यजनक रूप से श्री-सम्पत्ति की वृद्धि होने लगती है। इस नाल यंत्र का प्रभाव विशेष रूप से धातु लाभ (सोना-चाँदी की प्राप्ति) कराता है।

इस बिल्ली की जेर को रवि पुष्य योग में विधिवत प्राण प्रतिष्ठित करें और अभिमंत्रित करें ,उसके बाद इसे गल्ले तिजोरी में स्थापित करें |यह लक्ष्मी प्राप्ति और वृद्धि का उत्तम tantra प्रयोग है |

इस बिल्ली की जेर के अनेकानेक tantra प्रयोग हैं जो जब यह प्राप्त हो जाए तो योग्य जानकार से पूछकर किये जा सकते हैं | मुश्किल इसका मिलना ही है , इसके बाद तो यह स्थिति सुधार देता है | हत्थाजोड़ी -सियार सिंगी के साथ भी इसके अनेक प्रयोग हैं जो कर्ज मुक्ति ,आर्थिक संकट ,व्यापार वाधा ,बंधन आदि को समाप्त करते हैं 

बिल्ली के जेर को सिद्ध करने में काफी कड़ी मेहनत करनी पड़ती है इसको सिद्ध करने में काफी समय लगता है। अगर ये होली या दिवाली पर सिद्ध करि जाये तो ये बहुत ही कारगर होती है और इसका नतीजा भी जबरदस्त मिलता है। इसको आप किसी भी पंडित, तांत्रिक या जिसे भी आप अपना गुरु मानते हो उनसे सिद्ध करवा सकते है। आप चाहे तो खुद भी इसे सिद्ध कर सकते है इसको सिद्ध करने के लिए दिए गए मंत्र (मंत्र: ‘ओम श्रीं उलुक मम् कराय कुरु कुरु नमः’ – ) का 5 दिन 108 दाने की माला प्रतिदिन 11 बार करनी है। सिद्ध करने से पहले ध्यान रखे कि इससे चाँदी कि डब्बी में सिन्दूर के अंदर रखना है और सिद्ध करने के बाद डब्बी को कभी खोलना नहीं है। अगर ये डब्बी अपने या किसी ने भी खोल दी तो इसकी सिद्ध कि हुई शक्ति खतम हो जाएगी।

बिली की ज़ेर का उल्लेख हमारे शास्त्रों और ग्रंथों में मिलता है। इन प्राचीन ग्रंथों के अनुसार इस रहस्यमय वस्तु को प्राप्त करना अभी बहुत कठिन है, यदि इसे ठीक से संरक्षित किया जाए तो यह बहुत उपयोगी है। ऐसा करने के लिए, बिली की ज़ेर को हमेशा सिंदूर (सिंदूर पाउडर) से भरे डिब्बे में रखना चाहिए। यह रहस्यमय वस्तु मालिकों को संकट पर काबू पाने में मदद करती है। यह मन की उपस्थिति में सुधार करता है, आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाता है और व्यक्तियों को अपार धन और समृद्धि का आशीर्वाद देता है। यह संपत्ति के निर्माण, बचत में वृद्धि की सुविधा प्रदान करता है और धन के अधिग्रहण और संचय में मदद करता है। यह अनुष्ठान प्रतिष्ठान और वशीकरण करने में मालिक की मदद करता है।

पहले ग्रामीणों, व्यापारियों, तांत्रिकों, संतों और उच्च आध्यात्मिक स्तर के नेताओं को बिली की नाल के गुण और इतनी पवित्र वस्तु को संरक्षित करने के लाभों के बारे में पता था। यह वस्तु अब शहरों में भी बेहद लोकप्रिय हो रही है। बढ़ती जागरूकता ने शहरवासियों को इस चमत्कारी वस्तु के लाभों का आनंद लेने में अक्षम बनाया है।

जागरूकता की कमी का एक सबसे बड़ा कारण उपलब्धता की कमी है। जो लोग इसके मालिक हैं वे इसे संरक्षित करने के लिए लाल कपड़े या सिंदूर में लपेट कर रखते हैं। बिली की जेर राहु, शुक्र और मंगल के ग्रहों के प्रभाव का मुकाबला करने के लिए अच्छी है। कुछ गांवों में, एक सप्ताह के बाद गिरने वाले नर बच्चे की गर्भनाल को संरक्षित करके घर की नींव में दबा दिया जाता है। इस गर्भनाल को भी लाल कपड़े के टुकड़े में लपेटा जाता है। लाल किताब गर्भनाल को संरक्षित करने के तरीकों और तकनीकों का भी सुझाव देती है।

बिली की नाल दुर्लभ है क्योंकि बिल्ली अपने बच्चे को जन्म देने के तुरंत बाद नाभि को खाती है। इस वस्तु को प्राप्त करने के लिए बहुत तत्परता की आवश्यकता होती है। यह वस्तु अत्यंत उपयोगी हो सकती है यदि इसे उचित तरीके से संरक्षित किया जाए। चाँदी की सिन्दूर की डब्बी में बिली की ज़ेर कार्यस्थल के कैश बॉक्स में रखने पर अत्यंत प्रभावी होती है। वस्तु को निर्धारित स्थान पर रखने से पहले उसकी प्राण-प्रतिष्ठा और शुद्धि पूजा करनी चाहिए। बिली की नाल का उपयोग आमतौर पर जुआरी, स्टॉक और शेयरों में सट्टा लगाने वाले लोग, दलालों, व्यवसायियों आदि द्वारा किया जाता है।

एक अच्छी तरह से सक्रिय बिली की ज़ेर व्यक्तियों के लिए संपत्ति, धन और संपत्ति लाता है। इसे बिली की जेर या बिली की नाल के नाम से भी जाना जाता है। यह रहस्यमय वस्तु कई प्रतिष्ठान और अनुष्ठानों में मदद करती है। कुछ अनुष्ठान वशीकरण पूजा, विष्णु मोहिनी, दुर्गा मोहिनी आदि हैं। भारत की पूर्वी भूमि का यह रहस्यमय रहस्य संकट पर काबू पाने में मदद करता है; दिमाग की उपस्थिति में सुधार करता है और व्यक्तियों के आत्मविश्वास के स्तर को बढ़ाता है। बिल्ली का नौसैनिक राग लोगों को धन और समृद्धि का आशीर्वाद देता है।

1. बिल्ली की जेर के लाभ यह सोच क्षमताओं को बेहतर करती है

ऐसा माना जाता है कि बिल्ली की जेर जिस इंसान के पास होती है। उसका मन और बेहतर तरीके से काम कर पाता है। और उसकी सोच के अंदर बहुत अधिक सुधार हो पाता है। व्यक्ति की जब सोचन क्षमता के अंदर विकास होता है। तो ही वह और अधिक आगे बढ़ पाता है। ‌‌‌कहने का मतलब है । इसान के मन के अंदर नए नए आइडियास आते हैं। जिनका यूज वह करके अपने स्तर को उंचा उठा सकता है। उसका दिमाग काफी तेजी से काम करने लग जाता है। जिनके पास बिल्ली की जेर होती है।

‌‌‌2. धन हानि नहीं होती है

आमतौर पर यदि हम किसी काम के अंदर पैसे लगाते हैं। तो हमे इस बात का डर हमेशा ही बना रहता है कि हमे धन हानि ना हो जाए । लेकिन यदि आप अपने पास बिल्ली की जेर लिए रखते हैं। तो आपको हानि होने की संभावना कम होती है। लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि आप आंख मीच कर पैसा लगादें। ‌‌‌कहने का मतलब है। यदि आप  बिना सोचे समझे कहीं पर भी पैसा लगादेंगे तो आपको बिल्ली की जेर भी नहीं बचा पाएगी । यह कुछ उसी तरीके से है। जिस तरीके से कुए मे जानबूझ कर लटकने वाले को भगवान बचाने नहीं आता है।

3. ग्रह राहु, मंगल और शुक्र के हानिकारक प्रभावों को दूर करती है

ग्रहों के बुरे प्रभाव की वजह से इंसान के जीवन के अंदर उतार चढ़ाव आते रहते हैं। यदि किसी व्यक्ति राहु खराब चल रहा है तो उसे अनेक प्रकार के कष्ट भोगने पड़ सकते हैं। जैसे पारिवारिक जीवन खराब हो जाता है , ‌‌‌व्यक्ति पैसा बचाने मे असमर्थ रहता है। ,व्यक्ति की मौत किसी हथियार से होती है। और व्यक्ति पर चोरी का इल्जाम लग सकता है। ‌‌‌इसी तरह से मंगल ग्रह आदि के अशुभ फल को दूर करने मे बिल्ली की जेर को काफी फायदे मंद माना जाता है।

अंदर यह विश्वास पैदा हो जाता है कि निश्चिय ही एक दिन हमको सफलता मिलेगी । और बस यही विश्वास हमारे दिमाग को शांत करता है। ‌‌‌इस स्थिति के अंदर हम इस उम्मीद के साथ रहते हैं। कि अब डरने की कोई आवश्यकता नहीं है। हम जल्दी ही सफल होने वाले हैं।

4. बिल्ली की जेर के लाभ भारी मुनाफा और व्यापार में सफलता

बिल्ली की जेर का फायदा यह भी है कि लोग इसको धन और व्यापार के अंदर फायदे से जोड़कर देखते हैं। अधिकतर लोग यह सोचते हैं कि यदि उनके पास कोई भी बिल्ली की जेर आ जाती है। तो उनका मरा मरा चलता धंधा उनको करोड़पति बना सकता है। हालांकि यह विज्ञान नहीं कहता है। ऐसा ‌‌‌मानना है ज्योतिष का । ज्योतिष के अनुसार बिल्ली की जेर को आप दुकान ,कार्यालय  और कारखाने के अंदर सिंदर के साथ लाल कपड़े के अंदर लपेट कर रखा जा सकता है। ‌‌‌माना जाता है कि यह जहां पर भी रखा होता है। वहां पर यह भारी मुनाफा देने वाला होता है। और इसी वजह से बिजनेस के अंदर सफलता पाने के लिए लोग इस जंत्र का प्रयोग करते हैं।

‌‌‌5. पूजा के अंदर प्रयोग

अनेक तरह की पूजाओं के अंदर बिल्ली की जेर का प्रयोग भी किया जाता है।दुर्गा पूजा, विष्णु पूजा, मोहिनी पूजा  आदि।मार्जारी तंत्र के अनुसार बिल्ली सिंह परिवार से होती है। मतलब यह छोटे सिंह का रूप होती है। ऐसा माना जाता है कि बिल्ली माता लक्ष्मी को प्रिय होती हैं। और ‌‌‌इसी वजह से  बिल्ली की जेर का प्रयोग पूजा के अंदर भी किया जाता है।

6. बिल्ली की जेर के लाभ धन संचय

ऐसा माना जाता है कि जिन लोगों के पास धन रूकता नहीं है। उनको बिल्ली की जेर को अपने पास रखना चाहिए। बिल्ली की जेर धन संचय को बढ़ावा देने का काम करती है। यदि आपकी भी कमाई कम और व्यय अधिक हो जाता है। तो आपको भी कहीं से ऑरेजनल बिल्ली की जेर को खरीद लेना चाहिए और पूजा आदि करवा कर उसे ‌‌‌अपने घर के अंदर स्थापित करना चाहिए। ताकि धन का अधिक संचय हो सके ।

‌‌‌7. आत्मविश्वास को बढ़ता है

सबसे बड़ी बात तो यह है आम आदमी के पास जब बिल्ली की जेर आ जाती है । तो फिर वह यह समझने लगता है कि हां वह कर सकता है। उसके मन के अंदर यह विश्वास पैदा हो जाता है कि वह अवश्य ही सफल होगा । मतलब उसके मन के अंदर जो डर था । वह मनोवैज्ञानिक रूप से दब जाता है। ‌‌‌और व्यक्ति के प्रयास की संख्या के अंदर ईजाफा होता है। वह चीजों को बेहतर करने की कोशिश करता है।

‌‌‌ 8. बिल्ली की जेर के लाभ दिमाग को शांत करता है

आमतौर पर बिल्ली की जेर का यह एक मनौवेज्ञानिक प्रभाव है कि बिल्ली की जेर इंसान के दिमाग को शांत कर सकती है। आमतौर पर बिजनेस के अंदर असफलता के डर से हम मन ही मन परेशान हो जाते हैं। हमारा दिमाग खराब रहता है। लेकिन एक बार जब आपके पास बिल्ली की जेर आ जाती है। तो ‌‌‌मन के अंदर यह विश्वास पैदा हो जाता है कि निश्चिय ही एक दिन हमको सफलता मिलेगी । और बस यही विश्वास हमारे दिमाग को शांत करता है। ‌‌‌इस स्थिति के अंदर हम इस उम्मीद के साथ रहते हैं। कि अब डरने की कोई आवश्यकता नहीं है। हम जल्दी ही सफल होने वाले हैं।

‌‌‌9. आपके सपने देखने की प्रव्रति को बढ़ा देती है।

बिल्ली की जेर का फायदा यह है कि यह आपके सपने देखने की प्रव्रति को बढ़ादेती है। ‌‌‌जब आप बिल्ली की जेर को घर लेकर आते हैं तो फिर आपके मन के अंदर यह विश्वास पैदा हो जाता है कि अब आपका बिजनेस अधिक सफल हो सकता है। और ऐसी स्थिति के अंदर आप तरह तरह के सपने देखने लगते हैं। क्योंकि आपके मन के अंदर वह डर खत्म हो जाता है जो आपको सपने देखने से रोकता है। और उस डर का नाम है ‌‌‌असफलता का डर । ‌‌‌कहने का मतलब है जब इंसान सपने देखता है तो तभी आगे बढ़ता है। जितने उंचे सपने देखे जाते हैं। उतना ही उंचा इंसान बन जाता है।

10. बिल्ली की जेर के लाभ जादुई शक्ति प्राप्त होती हैं

ऐसा माना जाता है कि बिल्ली की जेर के अंदर चमत्कारी ताकते होती हैं। और उन चमत्कारी ताकतों की वजह से ही बिल्ली की जेर जिस इंसान के पास होती है। उसके सारे कार्य सिद्व होने लग जाते हैं। इसी वजह से वह इंसान दूसरे आम इंसानों से ज्यादा सफल हो जाता है।

11. घर मे सुख और सम्रद्वि आती है

बिल्ली की जेर को घर के अंदर सुख सम्रद्वि से भी जोड़कर देखा जाता है। क्योंकि बिल्ली की जेर की वजह से घर के अंदर धन की कमी नहीं होती है। और हर इंसान धन को सुख से जोड़कर देखता है। और धन की मदद से सुख के साधन खरीदे जा सकते हैं।

‌‌‌ 12. बिल्ली की जेर के लाभ दुर्भाग्य दूर करने मे

यदि आप बार बार सफल होने का प्रयास करते रहते हैं। और उसके बाद भी आपको सफलता नहीं मिलती है। तो इसका मतलब है आपका भाग्य आपका साथ नहीं दे रहा है। ऐसा माना जाता है दुर्भाग्य को दूर करने मे बिल्ली की जेर मदद कर सकती है। लेकिन यह ऑरेजनल होनी चाहिए।

‌‌‌13. वशीकरण करने के लिए

आमतौर पर बिल्ली की जेर का प्रयोग वशीकरण करने के लिए भी किया जाता है।वैसे तो वशीकरण करने की कई सारी विधियां होती हैं। लेकिन यह भी एक प्रभावी विधि के तौर पर प्रयोग मे लाई जाती है। ‌‌‌पति पत्नी वशीकरण , शत्रू वशीकरण आदि बिल्ली की जेर से आसानी से किये जा सकते हैं।

14. सकारात्मक उर्जा

बिल्ली की जेर का लाभ यह भी है कि यदि आप इसे घर के अंदर रखते हैं। तो सकारात्मक उर्जा की बढ़ोतरी होती है। और घर के अंदर जो नकारात्मक उर्जा होती है। वह घर से बाहर चली जाती है। जिससे घर मे खुशहाली आती है।

15. कर्जों की समस्या से छूटकारा

यदि आप पर कर्जों का बोझ बहुत अधिक बढ़ गया है। और आय के अंदर बढ़ोतरी नहीं हो रही है । तो आप बिल्ली की जेर का प्रयोग ले सकते हैं। इसको व्यापार स्थल पर रखने से आय के अंदर बढ़ोतरी होती है। और कर्ज की समस्या से छूटकारा मिलता है।

‌‌‌16. व्यक्ति के ज्ञान मे बढ़ोतरी

बिल्ली की जेर के संबंध मे एक ज्योतिषी लिखते हैं कि यह इंसान के ज्ञान के अंदर बढ़ोतरी करती है। और अनुशासन को बनाने मे मदद करती है। और धेर्य को बढ़ावा देने का काम भी करती है। यह भी बिल्ली की जेर का एक फायदा है।

‌‌‌17. कोर्ट केस मे फायदा

यदि आप पर कोई कोर्ट केस चल रहा है। और आप चाहते हैं कि इसका फैसला आपके पक्ष के अंदर आए तो बेहतर होगा कि कोर्ट के अंदर आप बिल्ली की जेर को अपने साथ लेकर जाएं । जिससे इस बात की संभावना होगी आपको सकारात्मक परिणाम मिले

Share Reality:
WhatsAppFacebookTwitterLinkedIn

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *