Delhi Liquor ‘Scam’ : उच्चतम न्यायालय ने कारोबारी समीर महेंद्रू की जमानत अर्जी खारिज

WhatsAppFacebookTwitterLinkedIn

उच्चतम न्यायालय ने कथित दिल्ली आबकारी नीति घोटाले से जुड़े धन शोधन मामले में शराब कारोबारी समीर महेंद्रू की जमानत याचिका खारिज कर दी है। कारोबारी ने स्वास्थ्य आधार पर जमानत का अनुरोध किया था। Supreme Court rejected bail plea of Delhi liquor Scam accused Sameer Mahendru.

न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति एस.वी.एन. भट्टी की पीठ ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), दिल्ली की रिपोर्ट पर गौर किया जिसमें कहा गया कि महेंद्रू किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित नहीं हैं।

शीर्ष अदालत ने 11 दिसंबर को एम्स से महेंद्रू की स्वास्थ्य जांच के लिए एक मेडिकल बोर्ड गठित करने को कहा था।

आरोपी ने दावा किया था कि वह पीठ और घुटने की समस्याओं सहित विभिन्न बीमारियों से ग्रसित हैं।

पीठ ने एम्स से पूछा था कि वह अपनी रिपोर्ट में यह बताए कि क्या उन्हें किसी इलाज की जरूरत है और क्या यह जेल में उपलब्ध कराया जा सकता है।

पीठ ने 15 दिसंबर को मेडिकल रिपोर्ट पर विचार करते हुए महेंद्रू की ओर से पेश वरिष्ठ वकील सिद्धार्थ दवे से कहा, ”अब, हमारे पास एम्स की एक रिपोर्ट है। इसमें कहा गया है कि कुछ भी गंभीर नहीं है।”

दवे ने जवाब दिया, ”यह किस तरह की रिपोर्ट है? चिकित्सकों ने एमआरआई स्कैन किए बिना ही अपनी रिपोर्ट दे दी है।”

पीठ ने दवे से दो टूक शब्दों में कहा कि वह प्रतिष्ठित अस्पताल की रिपोर्ट पर संदेह नहीं कर सकती।

पीठ ने अपने आदेश में कहा, ”हम अपने निर्णय में हस्तक्षेप करने के इच्छुक नहीं हैं और इसलिए विशेष अनुमति याचिका खारिज की जाती है। हम यह स्पष्ट करते हैं कि आक्षेपित निर्णय और वर्तमान विशेष अनुमति याचिका को खारिज करने का मामले में नियमित जमानत के आवेदन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।”

उच्चतम न्यायालय मामले में जमानत देने से इनकार करने के दिल्ली उच्च न्यायालय के 19 अक्टूबर के आदेश के खिलाफ महेंद्रू की अपील पर सुनवाई कर रहा था।

Share Reality:
WhatsAppFacebookTwitterLinkedIn

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *